गैर मुस्लिम लोगों की धमकी से गाँव छोड़ने को मजबूर 200 मुसलमान

राजस्थान के जैसलमर जिल्हे के एक गांव मे करीब 200 मुसलमानो को गांव छोड़कर जाने के लिए मजबूर किया जाने का मामला सामने आया है । हिंदुस्तान टाइम्स की खबरों के मुताबिक लोक गायक आदम खान की हत्या के बाद उच्च जाती के हिंदू लोगो की ओर से करीब 20 मुस्लिम परिवारों को धमकिया दी गई और उन्हे गांव छोड़ कर जाने पर मजबूर किया गया.

Converted Hindu In Islam

इस जिल्हे के दांतल गांव मे रहने वाले 20 मुस्लिम परिवार यानी के करीब 200 मुसलमान इन धमकियों से मजबूर होकर अपना गांव छोड़ कर पास के बलाड गांव मे अपने रिश्तेदारों के घर मे पुलिस की सुरक्षा मे रह रहे है. Hindustan Times की रिपोर्ट के अनुसार सितंबर को दांतल गांव मे एक धार्मिक समारोह आयोजित किया गया था । जिसमे एक श्रद्धालु रमेश सुथार ने आमद खान नाम के लोक गायक को भजन गाने की एक खास फरमाइश की.

रमेश सुठार का मानना था कि आमद खान के भजन गाने पर उसके अंदर देवी प्रकट होंगी पर ऐसा नहीं हुआ । तो रमेश सुथार ने आमद खान पर आरोप लगाया कि उसने धीमी आवाज़ मे भजन गया है, जिसके कारण देवी प्रकट नहीं हुई । इसकी वजह से रमेश सुथार ने गायक खान से अन-बन की और उसका वाद्य यंत्र भी तोड़ दिया और उसके साथ मारपीठ की । साथ ही रमेश सुथार पर आरोप है कि उसने अपने दो साथियो के साथ मिलकर गायक आमद खान को उसी रात उसके घर से उठाया । जिसके बाद उसका शव उसके घर के बाहर मिला था.

गायक खान के परिवार को हिंदू परिवारों ने धमकी दी कि वो शिकायत दर्ज ना कराए । इसलिए गायक खान के परिवार ने उसे चुपचाप दफना दिया । फिर जब उनके रिश्तेदारों ने हत्या कि शिकायत दर्ज करने को कहा तब शिकायत दर्ज कराई गई तो गांव के ऊंची जाती के हिंदू लोगो ने मुस्लिमो को गांव छोड़कर चले जाने की धमकी दी.

गायक आमद खान के भाई सुगे खान ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि हमे धमकी दी गई कि हमने गांव नहीं छोड़ा तो वे लोग हमे मार देंगे । इसलिए करीब 20 परिवार के 200 मुसलमानो ने गांव छोड़ दिया और पास के बलाड गांव मे अपने रिश्तेदारों के घर मे रहने लगे.

जैसलमेर के एसपी यादव ने कहा के वे लोग मुसलमानो को वापस गांव लौट जाने के लिए मना रहे हैं। रिपोर्ट मे एसपी यादव के हवाले से लिखा है, ‘हमने उन लोगों को पूरी सुरक्षा देने का भरोसा दिया है, अगर वे लोग वापस लौट जाते हैं तो। हम लोगों ने गांव के बड़े लोगों से भी बात की है कि अगर उन्होंने मुस्लिमों को धमकाया तो मामला दर्ज किया जाएगा।’ 4 अक्टूबर को पुलिस ने रमेश सुथार को अपनी गिरफ्त मे ले लिया था, पर उसके दो साथी अब भी फरार है । खान के शव को कब्र से बाहर निकालकर पोस्टमार्टम कराया गया है ।